आचार्य प्रशांत आपके बेहतर भविष्य की लड़ाई लड़ रहे हैं
लेख
पॉर्न के पीछे का सच || नीम लड्डू
Author Acharya Prashant
आचार्य प्रशांत
1 मिनट
1.6K बार पढ़ा गया

यह तो साज़िश है जो २ मिनट ५ मिनट या २० मिनट के वीडियो दिखा दिए जाते हैं। इनमें दिखाया थोड़े ही जाता है, इनमें तो छुपाया जाता है। तुम पूरा देखो! पूरा देखने का मतलब है, वही नहीं देखा जो कैमरे के आगे हो रहा है, उनको भी देख लिया है जो कैमरे के पीछे खड़े हैं। पूरा देखने का मतलब है, उनको ही नहीं देख लिया जो उस वीडियो में अभिनय कर रहे हैं, उनको भी देख लिया जो उस वीडियो के अभिनेताओं से अभिनय करवा रहे हैं। और तुम देखोगे कितने तरीके किए जाते होंगे सिर्फ़ वीडियो को ऐसा तैयार करने में कि तुम पर वासना का पूरा ख़ुमार चढ़ जाए।

तीन साल की किसी लड़की ने यह नहीं सोचा होता है कि वह ऐसे अपनी ज़िन्दगी चलाएगी। कैसे हो गया यह? क्या आया होगा उसकी ज़िन्दगी में, कैसे मोड़?

यह जो सामने पॉर्न में लड़की है जो अभी तुम्हें सिर्फ़-और-सिर्फ़ एक जवान औरत जैसी दिखाई दे रही है, यह भी तो छोटी बच्ची ही थी, अभी बस कल ही!

क्या आपको आचार्य प्रशांत की शिक्षाओं से लाभ हुआ है?
आपके योगदान से ही यह मिशन आगे बढ़ेगा।
योगदान दें
सभी लेख देखें
AP Sign
नमस्ते 🙏🏼
हम आपकी सहायता कैसे कर सकते हैं?
सहायता