Acharya Prashant is dedicated to building a brighter future for you
Articles
सत्य का गहरा व सूक्ष्म स्मरण || आचार्य प्रशांत, संत मलूकदास पर (2014)
Author Acharya Prashant
Acharya Prashant
1 मिनट
116 बार पढ़ा गया

दोहा:

सुमिरन ऐसा कीजिए, दूजा लखे न कोय | ओठ न फरकत देखिए, प्रेम राखिए गोय || ~ संत मलूकदास

प्रसंग:

  • सत्य की याद दुःख में ही क्यों सताती है?
  • सत्य को निरंतर कैसे याद रखें?
  • झूठ से आसक्ति कैसे हटायें?
  • संतों के क़रीब आने का क्या तरीका है?
क्या आपको आचार्य प्रशांत की शिक्षाओं से लाभ हुआ है?
आपके योगदान से ही यह मिशन आगे बढ़ेगा।
योगदान दें
सभी लेख देखें