Combo books @99/book! 60+ combos available. FREE DELIVERY! 😎🔥
AP Books
माया [नवीन प्रकाशन]
जो मन से न उतरे, माया काहिए सोय
badge
book
ई-पुस्तक ले चुके हैं?
लॉगिन करें
ई-पुस्तक
तत्काल उपलब्ध
सुझायी सहयोग राशि
₹51
₹150
पेपरबैक
स्टॉक ख़त्म
76% छूट
₹129
₹550
अब आप सर्वोत्तम पढ़ने के अनुभव के लिए हमारे मोबाइल ऐप पर ईबुक पढ़ सकते हैं ऐप देखें
यह पुस्तक अभी उपलब्ध नहीं हैं। कृपया कुछ दिनों बाद फिर प्रयास करें।
पुस्तक का विवरण
भाषा
hindi
प्रिंट की लम्बाई
222
विवरण
चाहे सामान्य जनों की सामान्य चर्चाएँ हों या विद्वानों की मंडली, 'माया' शब्द सबकी ज़ुबान पर होती है और माया को एक अबूझ पहेली की तरह समझा जाता है। माया क्या? वो जो हमें प्रतीत होता है, जिसकी हस्ती के बारे में हमें पूरा विश्वास हो जाता है, पर कुछ ही देर बाद या किसी और जगह पर, किसी और स्थिति में हम पाते हैं कि वो जो बड़ा सच्चा मालूम पड़ता था, वो या तो रहा नहीं या बदल गया, ऐसे को माया कहते हैं। तो देखने वाला ग़लत, देखने का उसका उपकरण सीमित, अनुपयुक्त, और जिस विषय को वो देख रहा है वह विषय छलावा और छद्म — इन तीनों ग़लतियों को मिलाकर के जो निकलता है उसको माया कहते हैं। आचार्य प्रशांत की यह पुस्तक हमें बताती है कि माया एक तल है, अनन्त ऊँचाई नहीं है माया। एक सीमित तल है माया, और हम उससे नीचे हैं। पर उससे ऊपर जाया जा सकता है, माया का दास होने की जगह माया का स्वामी हुआ जा सकता है। और माया का स्वामी जो हो गया, मात्र वही नमन करने योग्य है; उसी का नाम सत्य है, उसी का नाम परमात्मा है। आप भी यदि माया के इस सीमित तल से ऊपर उठकर आत्मा की अनन्त ऊँचाई को पाना चाहते हैं तो यह पुस्तक आपके लिए है।
अनुक्रमणिका
1. माया क्या है? (पूरी बात) 2. गुरु से मन हुआ दूर, बुद्धि पर माया भरपूर 3. अहंकार और माया में क्या सम्बन्ध है? 4. सब मोह-माया है, बच्चा! 5. अहंकार का आख़िरी दाँव क्या होता है? 6. कुविचार और सुविचार में अन्तर कैसे करें?
View all chapters
क्या आपको आचार्य प्रशांत की शिक्षाओं से लाभ हुआ है?
आपके योगदान से ही यह मिशन आगे बढ़ेगा।
योगदान दें