Combo books @99/book! 60+ combos available. FREE DELIVERY! 😎🔥
AP Books
क्लाइमेट चेंज [May'24 Edition] [Must Read]
प्रभाव, कारण, और समाधान
book
Already have eBook?
Login
eBook
Available Instantly
Suggested Contribution
₹21
₹150
Paperback
In Stock
43% Off
₹159
₹280
Now you can read eBook on our mobile app for the best reading experience View App
Quantity:
1
In stock
Free Delivery
Book Details
Language
hindi
Print Length
222
Description
आज के समय में क्लाइमेट चेंज मानवता के सामने सबसे बड़ी चुनौती है। अत्यधिक‌ बढ़ता तापमान, बिगड़ता वर्षा चक्र, अनियमित हवाऍं व तूफान, विलुप्त होती प्रजातियॉं, पिघलते ग्लेशियरों के कारण बढ़ता समुद्र जलस्तर — ये सब क्लाइमेट चेंज के कुछ प्रभाव हैं जो‌ स्पष्ट दिखने लगे हैं।

हम सिक्स्थ मास एक्स्टिंक्शन फ़ेज़ (छठे महाप्रलय) में प्रवेश कर चुके हैं। और खतरनाक बात ये है कि ये विनाशकारी स्थिति मनुष्यों द्वारा ही पैदा की‌ गई है।

वेदान्त कहता है — हमारे बाहर के सब कर्म हमारी भीतरी बेचैनी की अभिव्यक्ति होते हैं। हम नहीं जानते कि हम कौन हैं, हम यहाँ किसलिए हैं, हमारी वास्तविक ज़रूरत क्या है, इसलिए हम अन्तहीन भोग करते हैं, प्रजनन करते हैं और पृथ्वी का बेहद दोहन कर रहे हैं।

हमें स्वयं से ये पूछना ज़रूरी है —क्या ये भोग और भोग की वस्तुऍं हमारे मन के खालीपन को भर पा रही‌ हैं? इतना भोग करने पर‌ भी वो भीतरी बेचैनी घटने की बजाय और बढ़ती क्यों जा रही है?

इस पुस्तक के माध्यम से आचार्य प्रशांत ने समझाया है कि कैसे मन की बेचैनी और उसको मिटाने की अनंत अज्ञान भरी कोशिशों का ही परिणाम क्लाइमेट चेंज है‌। यह पुस्तक क्लाइमेट चेंज के अर्थ और खतरनाक प्रभावों के साथ उसके असल कारण और समाधान को समझने के लिए बहुत मददगार है।

..........

"In today's times, climate change is the greatest challenge facing humanity. Rising temperatures, disrupted rainfall patterns, irregular winds and storms, vanishing species, and melting glaciers leading to rising sea levels—these are some of the impacts of climate change.

We have entered the sixth mass extinction phase. The rate of species extinction today has increased a thousandfold compared to the normal rate. We are rapidly heading towards our own destruction, and the crucial point is that we are the cause of this destruction.

Vedanta states that all our external actions are expressions of our inner restlessness. We do not know who we are, why we are here, or what our real needs are. As a result, we indulge endlessly, reproduce, and live meaningless lives.

But are these indulgences and objects of indulgence able to fill the emptiness of our minds? Why does our inner restlessness continue to increase even with so much indulgence?

Through this book, Acharya Ji has explained how the restlessness of the mind and the endless ignorant efforts to alleviate it are the very cause of climate change. This book is very helpful for anyone who wants to understand the meaning and dangerous effects of climate change, as well as reach the true solution that arises from this knowledge."
Index
1. पृथ्वी बुखार में है 2. लद्दाख ही नहीं, हम सब जल रहे हैं 3. जितने बेहोश हैं, सब मरेंगे 4. मौसम तो बदलता रहता है, उसमें कौनसी बड़ी बात हो गयी? 5. बेटा, किस क्लास में हो? गूगल करना नहीं आता? 6. मैं जो भी खाऊँ, मेरी मर्ज़ी!
View all chapters
Have you benefited from Acharya Prashant's teachings?
Only through your contribution will this mission move forward.
Donate to spread the light